Shree Ram Jay Jay Ram Jay Jay Ram Mantra श्रीराम जय राम जय जय राम मंत्र by Worthy Naran & others

Sriram Jayaram Mantra


What is the power of this “Sriram Jayaram” mantra?
To get free from cancer – it is the most effective mantra.
Let the entire family of the patient chant only this mantra for a period of one month. The patient is likely to be absolutely free of cancer.
Meaning of the mantra
SREE means respectable divine.
The sound RA is always expanding. It is the sound that emanates from Soonyam – vacuum. “RA” is the only word which goes like an arrow and expands the space wherever it goes.
When “RA” is combined with “IM”, the expanding energy shines like a “SUN” – the power of the Sun – Solar Energy, which is all-pervading.
“JA” is the word that destroys mental and physical suffering.
“YA” have got the power of renewal.

That is the power of this mantra – revival and renewal.

In Chemotherapy, even normal cells are killed (along with cancer cells). Revival and renewal of those cells can be done only by this mantra.

The body has a self-defense mechanism. Whenever there is a tumor or cancer, immediately it will produce killer cells. But, when cancer develops, the killer cells are absent.

Moreover, here “Ra – containing Rum रं” is Beejamantra of Solar Plexus – pronunciation of which will burn the deadly cells and the pronunciation of Yum यं beejmantra in the word Jay जय would produce enough Oxygen to kill the deadly Cancerous cells as this is said that Cancer Cells could survive only in the absence of supply of proper oxygen.

Thus, we may conclude that: Rama Mantra can work as a killer cell and kill the cancer cells.


When “YA” is joined with “JA” (Jaya), it revives and renews at three levels – physical, pranic and mental.

Significance of Shree Ram mantra:-

In Ramayana Ram means our soul, super consciousness, truth and virtue. Shree means Sita whose is the eternal consort of Ram means the primal energy or the Kundalini Shakti. If Rama is considered as mariya purshottama or the perfect man the Shree exemplifies the perfect woman.


Spiritual significance of  Ram and Shree:

Ram as the symbolic of inner fire resides in Manipur chakra or solar plexus which burns away all the physical, mental, and spiritual impurities. While Shree as kundalini Shakti resides in Mooladhar or root chakra representing the earth element.
Shree-Ram mantra and the Kundalini Shakti:-

The Ram mantra ignite the internal fire that burns our all impurities and bad karma, while the Shree mantra activates the flow of prana in Sushumna Nadi , causing the upward movement of the Kundalini Shakti.
Effects of chanting Shree – Ram mantra:The subtle friction produced with the constant chanting of Shree Ram mantra, the Ida and Pingla nadis or sympathetic and parasympathetic nervous system gets activated and the Vagus Nerve or the Sushumna Nadi begins to vibrate.
Effects of chanting Shree – Ram mantra:

The Shree Ram mantra balances the both sides of brain.
Effects of chanting Sita – Ram mantra:-The Shree Ram mantra in combined form recharge the whole body, all toxins, blockages and impurities are removed and self awareness becomes active.
How to chant Shree Ram mantra?:-
Sitting in a comfortable posture. Relax the whole body and closed your eyes, chant rhythmically and with clear pronunciation and intensity of feeling the mantra Shree Ram-Jay Ram- Jay Jay Ram.  Gradually try to shift the chant from audible chanting to whispering chanting to mental chanting over the period of time. You may chant the mantra in whispering or mental form all the day in any time and in any place.
Benefits of chanting Shree Ram:-This is the easiest form of meditation for those who do not have proper spiritual masters or guidance.
Physical benefits:-This powerful yet simple chanting immediately improves the health of the aspirant. Clear complexion, glow on face, lightness, sweet body odour, pleasantness of voice, slight excretion and gradual improvement of physical and mental health is indicated
Psychic benefits:-It awakes the mysterious psychic awareness in the average individual as well as in the spiritual aspirant. Psychic power of different varieties and magnitude come to an aspirant as he progresses in this path.Mental benefits:-It balances the both sides of brain hence restless and unstoppable mind becomes still, harmonious and balanced. It increases the mastery over mind and senses. It induces the sound sleep in the seeker by curing the problem of insomnia.
Emotional benefits;-It integrates the personality of the seeker. The behavior of the person starts transforming. The person will become sincere, honest, and straightforward in word, thoughts and actions.
Spiritual benefits:-It induces one pointed devotion or Bhakti in the heart of the aspirant which is necessary for tasting the inner bliss. It protects us against all psychic attacks, black magic, negative thoughts and evil invisible entities.
When to chant the mantra?:-Mantra chanting can be practiced in any time and in any place. But it is advisable to practice it at regular time every day either early in the morning or before sleep at night.


“SREE RAM JAYA RAM JAYA JAYA RAM”

This mantra is one of the most important mantras. Of course, all mantras are good. But among the group of mantras, this mantra is a very special one.

Give me one Nama that is good enough

Lord Siva says to his wife Parvati, “If you cannot say all the 1000 names of Vishnu, just say ‘Rama’. That will be good enough”.

The Vishnu Sahsaranamam happens in the earth. It was uttered it in front of the Lord Vishnu. Dharma, the eldest of Pandavas, asked Bheeshma a question,

“Which dharma (right practice) is the best among the lot?”

Bheeshma replies, “The shepherd who is in front of us is Vasudeva; you chant his 1000 names then that is the best dharma. You will get emancipated”.

Then Parvati asks Siva, “I like to say all the 1000 names. But help the poor people, who by chanting one name alone, can get the same benefit”.

Siva replies to Parvati, “Saying the name RAMA will do”.

Real meaning of Sree Ram Mantra

The first word “SHREE” when joined with “M” becomes “SHREEM”, which people use it as a Yantra. They believe if they do Pooja on the Yantra, money will pour like anything.

However, that’s not the meaning of Sreem. The original meaning is “SUPREME DELIGHT and LOVE”.

Who is the happiest person in the world?

He is nothing but the “GOD”. That person who personifies the character of “Shreem” is “LORD RAM”.

When you utter the word “RA”, it will continuously expand. Like the mantra ‘OM’ it will expand to greater distances.

If you have an intention, then it can travel to any amount of distance with the help of Ram.

Can remove suffering in any form

When “M” is added to “RA”, then it means ‘It is shining like a ‘SUN’. Like Sun is brighter, this mantra is a bright and light-filled mantra. The word “RA” is inscribed in each of the arrows used by Rama.

“JA” – any mental and physical suffering can be removed by this word.

“YA” – means renewal and revival

This is an ultimate mantra for cancer. To cure cancer this is the best and ultimate mantra. To prevent cancer also we can use this mantra.

Treatment for Cancer

What is Chemotherapy? It destroys all cancer cells.

While the cancerous cells are destroyed, ordinary cells cannot survive. Only this mantra can protect one from the greatest annihilation.

There are many who have used this mantra to come out of cancer. However, I am not advising you that this mantra is enough and therefore you may stop all your treatments for cancer.

But if you chant this mantra, whatever suffering you undergo – both mentally and physically, you can come out of it.

When you chant this mantra, visualize that Lord Hanuman is standing as tall as the sky and chanting along with you. Imagine how much powerful the chanting will become then!!!

राम चिंतन”:-

राम चिंतन द्वारा -“रं” मंत्र मनन से मणिपुर चक्र में पूर्व से ही निरन्तर चले आ रहे असुंतलन से उत्पन्न पूर्व में हमारा स्वभाव बन चुकी हमारी ऐरोगैंसी-अहं युक्त – “मैं” व कर्ता भाव की भावना समाप्त होने लग जाती है! राम नाम का अर्थ रमन्ते सर्वभूतेषु स्थावरेषु चरेषु च।अंतराम स्वरूपेण यश्च रामेति कथ्यते।।जो सब जीवो में चल और अचल स्वरुप में बिराजते है उन्हें ही राम कहते है।
राम नाम का अर्थ ( रामायण अनुसार )बंदउ नाम राम रघुबर को । हेतु कृसानु भानु हिमकर को ।।बिधि हरि हरमय बेद प्राण सो ।अगुन अनूपम गुन निधन सो ।। में रघुनाथ जी का स्मरण करता हु जो नाम कृषा(अग्नि), भानु(सूर्य)का, और हिमदायक(चंद्र) बीजा मंत्र है।अर्थात “र” “आ” “म” = ” राम ” वो रामनाम ब्रह्मा-विष्णु-शिव स्वरुप है, जो वेदो के प्राण है जो निर्गुण और सर्वगुणो से युक्त है।।
नारद पुराण के अनुसार राम नाम का अर्थ र – कार बीज मंत्र अग्निनारायण का है जिसका काम शुभाशुभ कर्म को भस्म करदेना है।आ – कार बीज सूर्यनारायण का है जिसका काम मोहान्धकार को विनाश करना है | म – कार बीज चंद्रनारायण का है जिसका काम त्रिविध ताप  (दैहिक, दैविक और भौतिक, तीनों ताप या कष्ट) को संहार करने का है | इस तरह से नारदजी ने राम का अर्थ बताया हुआ है।
श्रीराम नाम के तीनो पदों ” र,अ,म” – में सच्चिदानंद का अभिप्राय स्पष्ट झलकता है।श्रीराम नाम के तीनो पदों में सत चित आनंद तीनो समाहित हैं अथार्त “र”कार चित का  “अ”कार सत का और “म”कार आनंद का वाचक है इस प्रकार ‘राम’ नाम सच्चिदानन्दमय है ।श्रीरामनाम को अग्नि सूर्य और चन्द्रमा का हेतु कहकर यह जनाया गया है की इन तीनो के कारण श्रीरामनाम हैं और ये तीनो कार्य हैं । राम नाम के तीनो अक्षरों (र,अ,म) क्रमशः इन तीनो के बीज अक्षर हैं । ‘र’ अग्निबीज है जैसे अग्नि शुभाशुभ कर्मों को जलाकर समाप्त कर देता है, वस्तु के गुण तथा दोषों को जला के शुद्ध कर देता है वैसे ही “र” के उच्चारण से व्यक्ति के शुभाशुभ कर्म नष्ट होते हैं जिसका फल स्वर्ग नरक का अभाव है साथ ही ये हमारे मन के मल-विषयवासनाओं का नाश कर देता है जिससे स्वस्वरूप(जीव का स्वरुप आत्मा है ) का आभास होने लगता है यहाँ कार्य से कारण में विशेषता दिखायी है । अग्नि से जो कार्य नहीं हो सकता वह उसके बीज से हो जाता है । 
‘अ’भानुबीज है वेदशास्त्रों का प्रकाशक है जैसे सूर्य अन्धकार को दूर करता है वैसे ही “अ” से मोह, दंभादी जो अविद्धातम है, उसका नाश होता है व ज्ञान का प्रकाश होता है । ‘म’ चंद्रबीज है,अमृत से परिपूर्ण है ।  जैसे चन्द्रमा शरदातप (शरद ऋतु का ताप) हरता है, शीतलता देता है वैसे ही ‘म’ से भक्ति उत्पन्न होती है त्रिताप दूर होते हैं । इस तरह से ‘र’ ‘अ’ और ‘म’ क्रमशः ज्ञान वैराग्य व भक्ति के उत्पादक हैं । 
“रमन्ति इति राम” जो रोम रोम में बसते है वो राम है। ॐ और राम परमात्मा के परिचायक शब्द है। ॐ (ओ अहम) अर्थात् वो परमात्मा जो हममें है। राम – जिसमें रमा जाता है।
रमन्ति योगिने यस्मिन स: राम अर्थात् योगी लोग जिसमें रमण करते है- वह एक परमात्मा।
ॐ या राम ही जपने के लिए क्यों कहा जाता है? क्योंकि ॐ और राम ही जपते-जपते आसानी से श्वास में ढल जाते है। पहले नाम जिह्वा से जपा जाता है लेकिन अवस्था उन्नत होने पर आगे चलकर श्वास से जपा जाता है, उससे उन्नत अवस्था होने पर जपना भी नहीं पड़ता बल्कि जप अपने आप चलता है – ‘जपै न जपावै अपने से आवै।’
आज तक होने वाले सभी संत-महापुरुषों ने इस मानव तन को दुर्लभ कहा है इसलिए इसे केवल संसार एवं भोगों में ही नष्ट न करें वरन आत्म चिंतन (परमात्म चिन्तन) में भी लगायें। भगवान् का भजन केवल मनुष्य ही कर सकता है, अन्य जीवों को भजन का अधिकार नहीं है क्योंकि वे भोग योनि है। 84 लाख योनियों के पश्चात मानव तन मिलता है इसलिए आदरणीय सज्जनों, प्यारे मित्रों इसे संसार के भोगों में व्यर्थ नष्ट न करें, परमात्मा के सुमिरन-भजन के लिए भी कुछ समय अवश्य निकालें।
श्वास-श्वास पर नाम जप, वृथा श्वास मत खोय।न जाने यहि श्वास का आवन होय न होय।।
राम नाम का पहला अर्थ है ‘रमन्ते योगिन: यस्मिन् राम:।’ यानी ‘राम’ ही मात्र एक ऐसे विषय हैं, जो योगियों की आध्यात्मिक-मानसिक भूख हैं, भोजन हैं, आनन्द और प्रसन्नता के स्त्रोत हैं।
‘राम’ नाम का क्या रहस्य हैं?
राम का अर्थ है ‘प्रकाश’। किरण एवं आभा (कांति) जैसे शब्दों के मूल में राम है। ‘रा’ का अर्थ है आभा (कांति) और ‘म’ का अर्थ है मैं, मेरा और मैं स्वयं। अर्थात मेरे भीतर प्रकाश, मेरे ह्रदय में प्रकाश।   ”रमंति इति रामः” जो रोम-रोम में रहता है, जो समूचे ब्रह्मांड में रमण करता है। वही राम है। 
‘महामंत्र’ है… राम नाम ही परमब्रह्म है…
कबीरदासजी ने कहा है- 
“आत्मा और राम एक है- 
आतम राम अवर नहिं दूजा।”
राम नाम कबीर का बीज मंत्र है। रामनाम को उन्होंने “अजपा जप” (जिसका उच्चारण नही किया जाता, अपितु जो स्वास और प्रतिस्वास के गमन और आगमन से सम्पादित किया जाता है।) कहा है। यह एक चिकित्सा विज्ञान आधारित सत्य है कि हम 24 घंटों में लगभग 21,600 श्वास भीतर लेते हैं और 21,600 उच्छावास बाहर फेंकते हैं।
इसका संकेत कबीरदाजी ने इस उक्ति में किया है- 
“सहस्र इक्कीस छह सै धागा, 
निहचल नाकै पोवै।”
अर्थात- मनुष्य 21,600 धागे नाक के सूक्ष्म द्वार में पिरोता रहता है। अर्थात प्रत्येक श्वास-प्रश्वास में वह राम का स्मरण करता रहता है।
राम का दूसरा अर्थ है:-‘रति महीधर: राम:।’, ‘रति’ का प्रथम अक्षर ‘र’ है और ‘महीधर’ का प्रथम अक्षर ‘म’, राम। ‘रति महीधर:’ सम्पूर्ण विश्व की सर्वश्रेष्ठ ज्योतित सत्ता है, जिनसे सभी ज्योतित सत्ताएं ज्योति प्राप्त करती हैं।

भगवान श्रीराम का विजय-मन्त्र : ‘श्रीराम जय राम जय जय राम’

भगवान के ‘नाम’ का महत्व भगवान से भी अधिक होता है । भगवान को भी अपने ‘नाम’ के आगे झुकना पड़ता है । यही कारण है कि भक्त ‘नाम’ जप के द्वारा भगवान को वश में कर लेते हैं ।

जब हनुमानजी संकट में थे, तब सबसे पहले ‘श्री राम जय राम जय जय राम’ मन्त्र नारद जी ने हनुमानजी को दिया था । इसलिए संकट-नाश के लिए इस मन्त्र का जप मनुष्य को अवश्य करना चाहिए । यह मन्त्र ‘मन्त्रराज’ भी कहलाता है क्योंकि—

  • यह उच्चारण करने में बहुत सरल है ।
  • इसमें देश, काल व पात्र का कोई बंधन नहीं है अर्थात् हर कहीं, हर समय व हर किसी के द्वारा यह मन्त्र जपा जा सकता है ।

इस मन्त्र का नाम विजय-मन्त्र क्यों ?

  • सत् गुण के रूप में (निष्काम भाव से) इस मन्त्र के जप से साधक अपनी इन्द्रियों पर विजय प्राप्त करता है ।
  • रजोगुण के रूप में (कामनापूर्ति के लिए) इस महामन्त्र के जप से मनुष्य दरिद्रता, दु:खों और सभी आपत्तियों पर विजय प्राप्त कर लेता है ।
  • तमोगुण के रूप में (शत्रु बाधा, मुकदमें में जीत आदि के लिए) इस मन्त्र का जप साधक को संसार में विजयी बनाता है और अपने विजय-मन्त्र नाम को सार्थक करता है ।
  • सच्चे साधक (गुणातीत जिसे गीता में स्थितप्रज्ञ कहा गया है) को यह विजय-मन्त्र परब्रह्म परमात्मा का दर्शन कराता है । इसी विजय-मन्त्र के कारण बजरंगबली हनुमान को श्रीराम का सांनिध्य और कृपा मिली । समर्थ गुरु रामदासजी ने इस मन्त्र का तेरह करोड़ जप किया और भगवान श्रीराम ने उन्हें प्रत्यक्ष दर्शन दिए थे ।
  • इस मन्त्र में तेरह (13) अक्षर हैं और तेरह लाख जप का एक पुरश्चरण माना गया है । इस मन्त्र का जप कर सकते हैं और कीर्तन के रूप में जोर से गा भी सकते हैं ।

इस मन्त्र को सच्ची श्रद्धा से जीवन में उतारने पर यह साधक के जीवन का सहारा, रक्षक और सच्चा पथ-प्रदर्शक बन जाता है ।

मन्त्र सम्बन्धी कथा

लंका-विजय के बाद एक बार अयोध्या में भगवान श्रीराम देवर्षि नारद, विश्वामित्र, वशिष्ठ आदि ऋषि-मुनियों के साथ बैठे थे । उस समय नारदजी ने ऋषियों से कहा कि यह बताएं—‘नाम’ (भगवान का नाम) और ‘नामी’ (स्वयं भगवान) में श्रेष्ठ कौन है ?’

इस पर सभी ऋषियों में वाद-विवाद होने लगा किन्तु कोई भी इस प्रश्न का सही निर्णय नहीं कर पाया । तब नारदजी ने कहा—‘निश्चय ही ‘भगवान का ‘नाम’ श्रेष्ठ है और इसको सिद्ध भी किया जा सकता है ।’

इस बात को सिद्ध करने के लिए नारदजी ने एक युक्ति निकाली । उन्होंने हनुमान जी से कहा कि तुम दरबार में जाकर सभी ऋषि-मुनियों को प्रणाम करना किन्तु विश्वामित्रजी को प्रणाम मत करना क्योंकि वे राजर्षि (राजा से ऋषि बने) हैं, अत: वे अन्य ऋषियों के समान सम्मान के योग्य नहीं हैं ।’

हनुमानजी ने दरबार में जाकर नारदजी के बताए अनुसार ही किया । विश्वामित्रजी हनुमानजी के इस व्यवहार से रुष्ट हो गए। तब नारदजी विश्वामित्रजी के पास जाकर बोले—‘हनुमान कितना उद्दण्ड और घमण्डी हो गया है, आपको छोड़कर उसने सभी को प्रणाम किया ?’ यह सुन विश्वामित्रजी आगबबूला हो गए और श्रीराम के पास जाकर बोले—‘तुम्हारे सेवक हनुमान ने सभी ऋषियों के सामने मेरा घोर अपमान किया है, अत: कल सूर्यास्त से पहले उसे तुम्हारे हाथों मृत्युदण्ड मिलना चाहिए ।’

विश्वामित्रजी श्रीराम के गुरु थे अत: श्रीराम को उनकी आज्ञा का पालन करना ही था ।‘ श्रीराम हनुमान को कल मृत्युदण्ड देंगे’—यह बात सारे नगर में आग की तरह फैल गई । हनुमानजी नारदजी के पास जाकर बोले—‘देवर्षि ! मेरी रक्षा कीजिए, प्रभु कल मेरा वध कर देंगे । मैंने आपके कहने से ही यह सब किया है ।’

नारदजी ने हनुमानजी से कहा—‘तुम निराश मत होओ, मैं जैसा बताऊं, वैसा ही करो । ब्राह्ममुहुर्त में उठकर सरयू नदी में स्नान करो और फिर नदी-तट पर ही खड़े होकर ‘श्रीराम जय राम जय जय राम’—इस मन्त्र का जप करते रहना । तुम्हें कुछ नहीं होगा ।’

दूसरे दिन प्रात:काल हनुमानजी की कठिन परीक्षा देखने के लिए अयोध्यावासियों की भीड़ जमा हो गई । हनुमानजी सूर्योदय से पहले ही सरयू में स्नान कर बालुका तट पर हाथ जोड़कर जोर-जोर से ‘श्रीराम जय राम जय जय राम’ का जप करने लगे ।

भगवान श्रीराम हनुमानजी से थोड़ी दूर पर खड़े होकर अपने प्रिय सेवक पर अनिच्छापूर्वक बाणों की बौछार करने लगे । पूरे दिन श्रीराम बाणों की वर्षा करते रहे, पर हनुमानजी का बाल-बांका भी नहीं हुआ । अंत में श्रीराम ने ब्रह्मास्त्र उठाया । हनुमानजी पूर्ण आत्मसमर्पण किए हुए जोर-जोर से मुस्कराते हुए ‘श्रीराम जय राम जय जय राम’ का जप करते रहे । सभी लोग आश्चर्य में डूब गए ।

तब नारदजी विश्वामित्रजी के पास जाकर बोले—‘मुने ! आप अपने क्रोध को समाप्त कीजिए । श्रीराम थक चुके हैं, उन्हें हनुमान के वध की गुरु-आज्ञा से मुक्त कीजिए । आपने श्रीराम के ‘नाम’ की महत्ता को तो प्रत्यक्ष देख ही लिया है । विभिन्न प्रकार के बाण हनुमान का कुछ भी नहीं बिगाड़ सके। अब आप श्रीराम को हनुमान को ब्रह्मास्त्र से न मारने की आज्ञा दें।’

विश्वामित्रजी ने वैसा ही किया। हनुमानजी आकर श्रीराम के चरणों पर गिर पड़े। विश्वामित्रजी ने हनुमानजी को आशीर्वाद देकर उनकी श्रीराम के प्रति अनन्य भक्ति की प्रशंसा की।

राम से बड़ा राम का नाम

गोस्वामी तुलसीदासजी का कहना है—‘राम-नाम’ राम से भी बड़ा है । राम ने तो केवल अहिल्या को तारा, किन्तु राम-नाम के जप ने करोड़ों दुर्जनों की बुद्धि सुधार दी । समुद्र पर सेतु बनाने के लिए राम को भालू-वानर इकट्ठे करने पड़े, बहुत परिश्रम करना पड़ा परन्तु राम-नाम से अपार भवसिन्धु ही सूख जाता है ।

कहेउँ नाम बड़ ब्रह्म राम तें ।
राम एक तापस तिय तारी ।
नाम कोटि खल कुमति सुधारी ।।
राम भालु कपि कटकु बटोरा।
सेतु हेतु श्रमु कीन्ह न थोरा ।।
नाम लेत भव सिंधु सुखाहीं ।
करहु विचार सुजन मन माहीं ।।

मन्त्र की व्याख्या

इस मन्त्र में—
‘श्रीराम’—यह भगवान राम के प्रति पुकार है ।
‘जय राम’—यह उनकी स्तुति है
‘जय जय राम’—यह उनके प्रति पूर्ण समर्पण है ।

संसार का मूल कारण सत्व, रज और तम—ये त्रिगुण हैं । ये तीनों ही भव-बंधन के कारण हैं । इन तीनों पर विजय पाने और संसार में सब कुछ ‘राम’ मानने की शिक्षा देने के लिए इस मन्त्र में तीन बार ‘राम’ और तीन ही बार ‘जय’शब्द का प्रयोग हुआ है ।

मन्त्र का जप करते समय मन में यह भाव रहे—‘भगवान श्रीराम और सीताजी दोनों मिलकर पूर्ण ब्रह्म हैं। हे राम ! मैं आपकी स्तुति करता हूँ और आपके शरण हूँ।’

तारक मंत्र ‘श्री’ से प्रारंभ होता है। ‘श्री’ को सीता अथवा शक्ति का प्रतीक माना गया है। राम शब्द ‘रा’ अर्थात् र-कार और ‘म’ मकार से मिल कर बना है। ‘रा’ अग्नि स्वरुप है। यह हमारे दुष्कर्मों का दाह करता है। ‘म’ जल तत्व का द्योतक है। जल आत्मा की जीवात्मा पर विजय का कारक है।

इस प्रकार पूरे तारक मंत्र – ‘श्री राम, जय राम, जय जय राम’ का सार निकलता है – शक्ति से परमात्मा पर विजय। योग शास्त्र में देखा जाए तो ‘रा’ वर्ण को सौर ऊर्जा का कारक माना गया है। यह हमारी रीढ़-रज्जू के दाईं ओर स्थित पिंगला नाड़ी में स्थित है।

यहां से यह शरीर में पौरुष ऊर्जा का संचार करता है। ‘मा’ वर्ण को चन्द्र ऊर्जा कारक अर्थात स्त्री लिंग माना गया है। यह रीढ़-रज्जू के बांई ओर स्थित इड़ा नाड़ी में प्रवाहित होता है।

इसीलिए कहा गया है कि श्वास और निश्वास में निरंतर र-कार ‘रा’ और म-कार ‘म’ का उच्चारण करते रहने से दोनों नाड़ियों में प्रवाहित ऊर्जा में सामंजस्य बना रहता है। अध्यात्म में यह माना गया है कि जब व्यक्ति ‘रा’ शब्द का उच्चारण करता है तो इसके साथ-साथ उसके आंतरिक पाप बाहर फेंक दिए जाते हैं। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि र”‘र” अग्नि का घोतक है व अग्नि में एक तो सब कुछ जल कर स्वाहा हो जाता है – हमारे पूण्य व पाप भी व दूसरे अग्नि ज्वाला सदैव ऊपर की ओर ही अग्रसित होती है – यानि फिर हमारी अधिगोती नहीं होती – सो इससे अंतःकरण निष्पाप हो जाता है।


0Shares