SAHAJ SHANKH Mudra (To Cure Slip Disc, Back Pain, Homorrhoids (Piles, Fissures, Fistula), Erectile/Sexual Dysfunction, Irregular Menses, & Stammering etc)

Sahaj Shankh सहज शंख मुद्रा – Used To Cure All Kinds of Roota, Solar & Throat Chakra Related Problems like – हकलाने – तुतलाने (वाला व्यक्ति यह तो जानता है कि उसे क्या बोलना है, लेकिन वह बोल नहीं पाता और एक ही अक्षर या शब्द बार-बार दोहराता है। यह समस्या बोलने से जुड़ी मांसपेशियों और जीभ पर नियंत्रण न होने से पैदा होती है।)

मुद्रा बनाने की विधि:
दोनों हाथों की उंगलियों को एक-दूसरे में फंसा – हथेलियों को दबाकर रखें तथा दोनों अंगूठों को बराबर में मिला कर रखें।

 

Uses:-

इस मुद्रा से anus (गुदा) रोग जैसे बवासीर, भगंदर फिस्टुला, मर्दाना ताकत, स्त्रियों के अनिमयित पीरियड्स, रीढ़ की हड्डी की तकलीफों,  बैक एक, हकलाना, तुतलाना और गले के रोग व गैस दूर हो पाचनशक्ति में वृद्धि होकर भूख तेज हो जाती है।

करने का समय:- सुबह शाम 20+ मिनट।

Note-

इस मुद्रा को वज्रासन में करना अधिक उपयोगी है व मासिकधर्म समय पर न आता हो या स्राव कम या ज्यादा मात्रा में आता हो उनके लिए यह मुद्रा बहुत लाभकारी होती है।

इसे वज्रासन या सुखासन में 5/10 मिनट अथवा अधिक समय तक करना चाहिए। द्विगुणित लाभ प्राप्त करने की दृष्टि से इसे मूलबन्ध (गुदा के संकोचन) और प्राणायाम के साथ भी किया जा सकता है। मूलबन्ध करते समय सांस की गति स्वाभाविक रूप से रुक जाती है और शरीर में कम्पन-सा होने लगता है। योग के शब्दों में शौच की अवस्था में जब हम मल को रोकते हैं, तब शंखिनी नाड़ी को ऊपर की ओर खींचना पड़ता है, जबकि मूत्र को रोकने के लिए कुहू नाड़ी को खींचा जाता है। मूलबन्ध के नियमित अभ्यास से गुदा प्रदेश के स्नायु और काम ग्रंथियां सबल एवं स्वस्थ होती हैं। इससे स्तम्भन शक्ति बढ़ती है। हथेलियों की गद्दियों में मणिपूर चक्र व पेट की नसें मिलती हैं। अतः हथेलियों को परस्पर दबाने से हथेली में अंगूठे के नीचे गद्दी स्थित मणिपूर शक्ति के केंद्र पर विशेष असर पड़ता है। इससे हृदय व नाभिचक्र प्रभावित होते हैं तथा रक्त का संचार सही होता है। इस मुद्रा के प्रभाव से हकलाना, तुतलाना बंद होता है और इस मुद्रा अभ्यास सँग मुहँ से धीमे धीमे ॐ की ध्वनि निकालने से आवाज मधुर ऐंवम सुरीली बन जाती है। पाचन क्रिया ठीक होती है |आतंरिक और बाहरी स्वास्थय पर अच्छा प्रभाव पड़ता है |ब्रह्मचर्य पालन में मदद मिलती है। वज्रासन में करने पर विशेष लाभ मिलता है।

सहज शंख मुद्रा बारे श्रीवर्द्धन जी का मत:- (लेखक राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ प्रारक हैं। साथ ही योग, प्राणायाम, एक्यूप्रेशर एवं मुद्रा विज्ञान के सिद्ध हस्त एवं अभिनव शोधकर्ता भी हैं।)

विधि -इस मुद्रा को करने के लिए पहले दोनों हाथो की अंगुलियों को आपस में फसाकर हथेलिया मिला दे, दोनों अंगूठो को मिलाकर तर्जनी अंगुली को हल्का दबाये अवधि – दिन में 2 या 3 बार, 15 मिनट करना लाभकारी रहेगा।

लाभ –

1. इस मुद्रा में हथेलियो के मूल पर स्थित बड़ी आंत एव मलद्वार से सम्बन्धित एक्यूप्रेशर के बिन्दुओ पर दबाव पड़ता है जिससे बवासीर (Piles) व फिशर (Fissure) में लाभ मिलता है।

2. पाचन शक्ति ठीक होती है । वायु विकार समाप्त होता है। आँतों के रोग भी दूर होते हैं।

3. महिलाओ में मासिक धर्म की अनियमितता समाप्त होती है।

4. इस मुद्रा से गले के रोग ठीक होते है । कण्ठ की आवाज में मधुरता आती है।

5. इस मुद्रा से हथेलियों व अँगूठे के निचले भाग पर दबाव पड़ने से मणिपुर चक्र (नाभि) एवं अनाहत चक्र (हृदय के पीछे) पर भी अनुकूल प्रभाव पड़ने से गले को विशेष लाभ मिलता है एवं रक्त का संचार अच्छा होता है।

6. मूल बंध के साथ इस मुद्रा को करने से जननेन्द्रियों की शक्ति बढ़ती है।


Piles, Stomach Related Problems like Digestion, Intestines, Gastritis, Slip Disk, Back Pains Etc Etc. By Strengthening Nerves!

The SAHAJ SHANKH Hasta Mudra is said to energises the following TEN NERVE-NADIES -like Ida, Pingala, Sushumna, Gandhari, Hastijihva, Poosha, Yashasvini, Alambhushaa, Kohoo and Shankhini. This is worth noting that since the Shankhini Nadi activates our Mooladhara Chakra helping in rising of our serpent power Kundalini towards upper chakras! – hence this is but natural that Shankhini Nadi, the “mother of pearl energy channel,” originates in the throat and ends in the anus – cures all problems related from throat to anus region. Its energy flows between sarasvati nadi (Sarasvati – nadi which is behind Susumna nadi, terminating at the tongue, controlling speech and keeping the abdominal organs free from disease) and gandhari nadi (Gandhari – One of the nadis said to be behind the Ida nadi, terminating near the left eye, regulating the function of sight) on the left side of sushumna nadiAshvini mudra (the conscious contraction of the anus) is an another effective way of activating this nadi.

Sahaj Shankh Mudra is a multi use mudra which is very effective in providing relief for back problems, especially for those suffering from ankylosing spondylitis (Back Bone problem) and other back problems like Slip Disc because it helps in strengthening our back and keeping it straight, making it flexible too! In addition, it cures the root, solar plexus and throat chakras related problems. Concerning Root & Solar plexus chakras, it cures anus & digestion related diseases like indigestion, gastric cramps; acidity disorders, hommeriods – piles, fissures, fistula balancing eating disorders and appetite. And concerning the Throat Chakra, it cures stammering and throat related issues and thus helps in becoming mentally alert, quite-calm so that we feel remaining happy and cheerful!

To summarize the uses:- It cures digestion, piles and problems related to the anus, Slip disc, especially the ankylosing spondylitis (रीढ़ की हड्डी), makes our body flexible, spinal cord becomes straight with a long regular practice – even if the back used to remain bent & unstraight previously!

Similar to Shankha Mudra Sahaj Shankh Mudra is useful in curing speech, voice, digestive power, stomach and intestine problems.

How To?:
Preferably being in Vajrasan or in any sukhasan and keeping the pose of this mudra near the point of Solar plexuses,  join both hands together interlocking the fingers and press the palms together. Apply a gentle pressure with both the thumbs by laying them parallel to each other on the index finger. This forms the sahajan shankha mudra.

Note:- Also practice Gyan hasta mudra for removing stress if any, Linga hasta mudra for 15-20 minutes daily for sexual dysfunctioning removal and also practice Pran Hasta Mudra for 20 minutes for removing physical weaknesses if any and also to increase the good effect of Sahaj Shankh mudra. 

 

Another View: This Mudra should be practiced in Vajraasan or Sukhaasan for 10 minutes. One can also do this Mudra along with Moolbandh (Contraction of Anal Muscle) or with Pranayam to get more benefits. Moolbandh: In this Mudra one has to pull his Anal Muscles inside with full force and stay in this position till he can do it. With regular practice of Moolbandh, we can make anal muscles and sexual organs stronger and healthier. Procedure: This is another type of Shankh Mudra. This Mudra can be formed by simply trapping all the fingers of both the hands with each other and placing both the thumbs close to each other. Benefits: This Mudra makes our immune system stronger. This Mudra increases our blood circulation. This cure all ailments related to voice or speech i.e. Stammering, Stuttering, etc. Singers can make their voice sweet by practicing this Mudra. This improves digestion system. If one practice this after intake of food in Vajraasan it helps in digesting the food. It also helps to cure Gas problem. This Mudra helps us to practice Brahmacharya. This also helps in strengthening Anal muscles. With regular practice of Moolbandh even aged person can look like a youth person.
0Shares