नाम जप की विलक्षणता (यज्ञ, दान, तप, तीर्थ, व्रत आदि तो क्रियाएं हैं, मगर भगवान नाम का जप क्रिया न हो कर – अपितु प्रत्युत पुकार है)

0Shares