Apan / Apana Apaana Vayu / Vaayu / Sanjeevani Hast / Hasta ( अपान वायु संजीवनी हस्त मुद्रा )

समान वायु छेत्र में प्राणवायु ऐंवम अपानवायु के मिलन से योग की स्थिति उत्पन्न होना माना गया है! मूल आधार चक्र के देवता – भगवान गणेश जी की ऋद्धि सिद्धि दो पत्नियां – प्राणवायु एवं अपानवायु की ही प्रतीक कही गई हैं!

How To Form Apan Vayu Hasta Mudra? Put Index Finger on the Thumbs Pads & Keep Touching the Tips of Ring & Middle Tips of both the hands with each other!

Benefits of Doing Apan-Vayu Hasta Mudra:-

1.Cures Shrinkage of Heart Arteries & Improve Cardiovascular Functioning:-

Imbalance occuring due to the defficiency of earth element, excessiveness of DRY AIR element, and less of fire element is responsible for heart-related disorders. This is a well known fact that whenever there is an excess of dry air element in the body, the walls of the arteries become thick and hard, which is known as Arteriosclerosis, in which condition that Arteries of Heart get shrinked, which may lead to various heart ailments. 
Apana Vayu mudra practice balances the deficiency in earth element with the fire element and decreases the pressure of excessive air element in the body.The reduction of excessive air element helps to make the walls of the arteries become normal and cures the shrinkage of heart arteries. Since the Earth Element is MOTHER & significator of all the body organs including Heart, Lungs etc. – the balancing of Earth Element with the help of Fire Element – Strengthens all of our Body organs and in addition to this, the Fire Element also helps in providing Lubrication to all the body Organs including our Heart . 0ur Heart Arteries are thus saved from getting further damage since these are filled with energy by earth element, lubricated by fire element and so become unaffected by excessive flow of dry air.
Thus we can say that this kind of balance of elements brought by the practice of Apan Vayu Mudra helps to clean the body and supply more oxygen to the heart. As a result, this increases the strength of our heart. 
Besides, Apana Vayu mudra clears the blockage in the heart arteries. Therefore it also cures fast heartbeats, chest pain, and irregular blood pressure. It is also helpful in curing heartburn. 

2. Cures Nervousness

As the nervous system is said to be consisted by the combination with Earth & Akash and or including the air element,  the Sanjeevani or Apana Vayu mudra balances these elements too and the nervous system too comes into balance.
3. Curing Anxiety:- Apan Vayu mudra is also useful to sooth anxiety and negative emotions since the Air element causing Anxiety gets balanced by decreasing the excessive flow of air and the emotional imbalance causing earth element also gets balanced with the practice of this mudra.
4. Better Digestion:- Apan Vayu mudra practice just after meals or any time Improves Digestion sinceApana Vayu mudra reduces air element in the body resulting in the improved digestive fire. 
Body Organ Detoxification: Since the balanced flow of earth and ether elements is responsible for detoxification of  body, hence our body organs get detoxified by the practice of this hasta mudra.
5. Cures Bloating & Gastric Problems:

Since the main cause of the above mentioned problems – Excess Air get reduced in the stomach area, so the problem of gastric, eructation and bloating gets automatically cured!
6. Cures Breathing & Respiratory Problems:-

Breathing problems faced while climbing stairs, running, climbing in stairs or mountain or suffocation felt there due to less oxygen intake, the practice of Apana Vayu mudra is helpful as this improves our lung functioning capability & capacity helping to  breath easiely. Therefore, the risks of heart diseases is minimised. So this is always advisable to practice this hasta mudra a little before climbing or even while climbing with an alternate practice of Pran Mudra in between so as to get energy and to get the body relieved of all the pains and sufferings that may occur due to physical tiredness.

Mainly disbalance in the earth, air, and fire element is responsible for heart-related disorders.

When there is an excess of air element in the body, the walls of the arteries become thick and hard (arteriosclerosis). This shrinks the heart arteries. This mudra balances the excess of the air element. As a result, the walls of the arteries become normal. Thus, this mudra helps to cure the shrinking of heart arteries.

Besides, Apana Vayu mudra clears the blockage in the heart arteries. Therefore it also cures fast heartbeats, chest pain, and irregular blood pressure. It is also helpful in curing heartburn.

Many believed that the nervous system is made up of Earth and Ether elements. Apana Vayu mudra balances these elements in the body, thus, it soothes the nervous system. As a result, it reduces nervousness.

Along with this, this mudra helps to relieve anxiety and negative emotions.

Improves Digestion
Apana Vayu mudra reduces air element in the body. This results in the improved digestive fire within the body, which improves digestion in the body. Thus, this mudra helps to improve digestion.

FitSri Version

This mudra also includes the flow of earth and ether element. These elements are responsible for detoxifying the body. Thus, the regular practice of Apana Vayu mudra also helps in detoxifying the body.

Also, this mudra cures the problem of gastric, eructation and bloating, which is caused by the excess of air element in the body.

Prevents Respiration-Related Problems.
If you have respiration-related problems like difficulty in breathing while walking fast, running, climbing in stairs, suffocation problems, Apana Vayu mudra is like a boon for you. This mudra improves lung function, thus, helps to cure such problems.

Apan mudra part in ApanVayu Specialty: The middle and ring fingers relate directly to the meridians connected with the heart. The thumb closes the circuit. Heart Mudra by Naram Sir:- Index finger base at the thumb, while the middle and ring fingers on both hands touches the tip of the thumb. It strengthens the heart. For all people above age 40 this Mudra can help. How does it work? Two processes are important for heart. One, de-oxygenated blood, which is full of carbon dioxide, goes to lungs from the heart, and lungs oxygenate it. The oxygenated blood is carried to heart and from the heart to all organs. This Mudra takes care of all those processes. It is very helpful for circulation. It is also called as detoxification Mudra. Energising the inner circulation of the heart is taken care of by the mantras, “Om HRAAM NAMAHA” and “OM HREEM NAMAHA”. Chant them, while doing the Mudra. The entire circulation will be strengthened. For high BP too, this Mudra is very helpful. Heart Mudra: you can do it, may be twice a day for 20 to 30 minutes. Apan Vayu Mudra: Heart Mudra • Apan Vayu Mudra is one of the most important healing Mudras. It strengthens the heart, regulates palpitations and eases gastric problem. This Mudra is specially recommended for all people who are 40+. This Mudra is also called as the ‘Mritasanjeevani Mudra’, as it provides immediate relief to a person suffering from cardiac arrest. It eases the pain and improves blood circulation when under angina attack. This Mudra is very helpful for persons suffering from high blood pressure (BP) too. It is also called detoxification Mudra as it is helpful in removing obstructions, blockages in the system and detoxifies the body. How does it work? • According to Ayurveda, any imbalance in the three “doshas” – Vata, Pitta and Kapha causes diseases. Apan Vayu Mudra restores balance in these three ‘doshas’. Apan Vayu Mudra stimulates and strengthens the blood circulatory system – digestive system, respiratory system, excretory system and the nervous system. • Folding the index finger reduces the air element, which helps to relieve pain and relax the body and mind. Connection of the thumb, middle finger and ring finger increases the fire element and the earth element, which helps to detoxify and cleanse the body, supply more oxygen to heart arteries and increase the power of the heart. The increase of earth element also contributes to improved vitality. • Apan Vayu Mudra is one of the most important healing Mudras. It strengthens the heart, regulates palpitations and eases gastric problem. This Mudra is specially recommended for all people who are 40+. This Mudra is also called as the ‘Mritasanjeevani Mudra’, as it provides immediate relief to a person suffering from cardiac arrest. It eases the pain and improves blood circulation when under angina attack. This Mudra is very helpful for persons suffering from high blood pressure (BP) too. It is also called detoxification Mudra as it is helpful in removing obstructions, blockages in the system and detoxifies the body. How does it work? • According to Ayurveda, any imbalance in the three “doshas” – Vata, Pitta and Kapha causes diseases. Apan Vayu Mudra restores balance in these three ‘doshas’. Apan Vayu Mudra stimulates and strengthens the blood circulatory system – digestive system, respiratory system, excretory system and the nervous system. • Folding the index finger reduces the air element, which helps to relieve pain and relax the body and mind. Connection of the thumb, middle finger and ring finger increases the fire element and the earth element, which helps to detoxify and cleanse the body, supply more oxygen to heart arteries and increase the power of the heart. The increase of earth element also contributes to improved vitality. Benefits of Heart Mudra • Helps cure chronic heart problems, heart pain, artery blocks and other ailments related to heart. • It can be used as a first aid remedy during heart attack. • Severe acid reflux (GERD), digestion problems gets cured with 10 minutes practice of this mudra. Acid reflux causes indigestion and might also cause headache as a side effect. It is also recommended to drink 1 litre of water and practice this mudra. In 10 minutes, the excess of food and acids are pushed out in form of vomiting. This is a great cure for acid reflux. Antacids do have similar effect but this is a natural remedy. • Helps to stop unwanted blinking of the eyes. • Balances the vata and pitta dosha in your body. Hence, beneficial for all health issues related to vata and/or pitta imbalance. • It is a good substitute for general painkillers like ibuprofen, diclofenac and paracetamol. It can be used to lessen the general pain and aches like headache, toothache, backache, neck pain, joints pain and arthritis. • It is highly effective in respiratory diseases like asthma. This Mudra, by cleansing the blood circulatory system, also helps the lungs in their functioning. People who suffer from difficult breathing while climbing stairs or walking fast should do this Mudra for about 10 minutes before climbing stairs; they will feel much better. • It is also highly effective in curing migraine. Migraine or headache is primarily due to weak digestion or excited nerves. This Mudra calms the nervous system and strengthens digestive system therefore leaving no cause for migraine. • Note: People suffering from cardiac ailments should perform Apan Vayu mudra on a regular basis. In fact, it is believed that it is a very good emergency treatment in case of a heart attack. It allows the patient to arrive safely to a hospital without causing any damage to the heart. • Note: You can further improve energisation of the inner circulation of the heart by mentally chanting the mantras, “OM HRAAM NAMAHA” on inhaling and “OM HREEM NAMAHA” on exhaling while doing the Mudra. This (Heart) Mudra is also called as Apana Vayu Mudra. In the Mudra, by keeping the index finger at the base of the thumb, the oxygen level is increased in the lower lobes of lungs. This is very good Mudra for heart as well as blood circulation. Seek love inside and not outside This Heart Mudra can restore harmony. By keeping the index finger at the base of the thumb, the energy goes to the heart center – Heart chakra, not just physical heart. We always want somebody to love us. That’s our nature. We seek love outside. When you are in this Mudra somehow or other your heart center is activated. Somebody is waiting to be loved by us The heart centre is like a cave. Because you are in darkness we seek love outside without knowing that somebody inside is in our heart sitting and waiting to be loved. Who is that? Is he a grown up person or he is a wise man? He is a small child sitting in the heart waiting for the one to love him. I am here. You don’t look at me at all. You say this person does not love you and that person does not love you. Don’t you see within? Don’t you hear my voice? Come here. I will teach you. I will be your guru. That is the voice of Lord Karthikeya. Chant now the mantra “GURU GUGAN KODI KODI LAVANYAM” while being in the Heart Mudra. You are not alone in this world. Lord Karthikeya as a teacher, as a guru is always inside your heart. ‘M’ is included in the word Lavanyam. It is a very important mantra as it touches the heart. Kodi means immense. Lavanyam means beautiful. So he is immensely beautiful. When the immensely beautiful child is looking at you and waiting for your love, you don’t look at him at all. Look within to love and be loved. अपानवायु हस्तमुद्रा बारे विचार: Kind Courtsey: http://mrinalkantipal.blogspot.com/2011/01/apan-vayu-mudra-as-heart-remedy.html?m=1 व्यक्तिगत विकास, स्वास्थ्य समस्याओं, धार्मिक दार्शनिक और अन्य मामले जो मेरे दिमाग में आते हैं, पर कठोर विचार। आपन वायु मुद्रा दिल के उपाय के रूप में अपान वायु मुदरा  अपान वायु मुदरा (जिसे लाइफसेवर भी कहा जाता है: दिल के दौरे के लिए प्राथमिक चिकित्सा) अपनी तर्जनी को मोड़ें और इसकी नोक को अपनी गेंद को छूने दो अंगूठा। वहीं, ए बीच और रिंग के टिप्स उंगलियां आपकी नोक को छूती हैं अंगूठा। अपनी छोटी उंगली बढ़ाएं। प्रत्येक हाथ से ऐसा करें। जब तक जरूरत हो तब तक इस्तेमाल करें प्रभाव, या अभ्यास महसूस करो उपचार के दौरान 15 मिनट के लिए दिन में तीन बार। जब आप इसे उपयोग करते हैं तो इस उंगली की स्थिति में एक प्राथमिक चिकित्सा समारोह हो सकता है केशव देव के अनुसार, दिल का दौरा पड़ने का पहला संकेत। यह कई को नियंत्रित करता है दिल की जटिलताओं। आपातकालीन स्थिति में, इसका और भी तेज असर हो सकता है नाइट्रोग्लिसरीन रखने से (सबसे अक्सर इस्तेमाल किया जाने वाला तत्काल उपाय) जीभ के नीचे। दिल के दौरे, साथ ही पुरानी दिल की शिकायतें, बस नहीं आती हैं अप्रत्याशित समय पर। इसके बजाय, वे एक संकेत हैं कि किसी व्यक्ति की जीवन शैली होनी चाहिए अलग से योजना बनाई गई। (ऑर्निश कार्यक्रम बहुत रहा है इस संबंध में सफल। 11) इस मुद्रा का उपयोग सामान्य के लिए भी किया जा सकता है हीलिंग और दिल की मजबूती। हृदय रोगी अक्सर दायित्वों के साथ इतने बंधे होते हैं कि वे नहीं अब अनुभव होता है कि बाहर से “संवेदनहीन” प्रतीत होता है। उनके पास आराम करने का समय नहीं है। वे भी एक कठिन समय शांति के साथ मुकाबला कर रहे हैं। कुछ हमेशा चल रहा है, और वे अक्सर इतना समर्थन देते हैं किसी काम पर या अपने अवकाश के समय में किसी चीज के लिए अपनी जरूरतों के लिए कोई जगह नहीं है। फिर भी, यह ठीक इन शांत क्षणों है वही हमारी आत्माओं का पोषण करने वाले हैं। अपने आप को कुछ समय के लिए अनुमति दें गुलाब की छवि – भले ही आप मुश्किल से किसी को छोड़ दें। शायद आप सुन सकें कुछ संगीत के लिए- ऐसा करने पर आपको हल्कापन महसूस होता है। हर्बल उपचार: गेहूं में विटामिन ई, मैग्नीशियम, और नींबू बाम (मेलिसा ऑफ़िसिनैलिस एल।) भी दिल में छूट को बढ़ावा देता है। आपन वायु मुद्रा और हार्ट अटैक पर अधिक हार्ट अटैक के लिए अपान वायु मुद्रा हृदय रोग को एक जीवन-शैली की बीमारी के रूप में करार दिया गया है, जो विशेष रूप से शहर के लोगों में होती है, जो (समय की कमी के साथ-साथ इच्छा शक्ति के कारण) बिल्कुल भी व्यायाम नहीं करते हैं, कोई शारीरिक काम नहीं करते हैं, बहुत बार जंक फूड खाते हैं, बहुत सोते हैं देर रात, रात का खाना भी बहुत देर से खाते हैं, अक्सर रात 9 या 10 बजे के बाद, रात को बहुत भारी भोजन करते हैं और फिर सो जाते हैं। इन दिनों लाखों लोग हृदय रोग से पीड़ित हैं। 50 वर्ष की आयु के लोगों में, यह बहुत आम हो गया है, लेकिन 25 साल से कम उम्र के लोगों में भी विशेष रूप से पुरुषों में, हृदय की समस्याओं का प्रचलन तेजी से बढ़ रहा है। हृदय की सबसे आम समस्या उच्च रक्तचाप (जिसे सामान्य पक्षाघात में उच्च बी.पी. कहा जाता है) और रक्त में कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ा हुआ है। शहरी क्षेत्रों में शहरी पुरुष आबादी का लगभग एक तिहाई से एक तिहाई, खासकर मेट्रो शहरों में इन जुड़वां समस्याओं से पीड़ित हैं। और जैसे-जैसे उम्र बढ़ती है, रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल का स्तर बढ़ता है, जिससे ‘आर्टेरियोस्क्लेरोसिस’ (धमनियों का सख्त होना) और अचानक दिल का दौरा पड़ता है। रजोनिवृत्ति से पूर्व रजोनिवृत्ति के समय महिलाओं को उनके एस्ट्रोजन हार्मोन के कारण स्वाभाविक रूप से हृदय रोग से बचाया जाता है, लेकिन एक बार जब वे रजोनिवृत्ति की उम्र को पार कर जाती हैं, तो एस्ट्रोजन का स्तर बहुत तेजी से गिरता है जो उन्हें प्राकृतिक सुरक्षा से वंचित करता है, और वे भी दिल की बीमारियों से ग्रस्त हो जाते हैं। फिर भी, दिल का दौरा एक पूर्व-प्रमुख रूप से पुरुष बीमारी है। और जब यह 60 से 65 वर्ष की आयु के समूहों में होता है, तो यह एक कड़वी कहानी छोड़ देता है। आपन वायु मुद्रा दिल का दौरा बिना किसी चेतावनी के अचानक आता है, हालांकि हृदय रोग के लक्षण बहुत पहले ही दिखाई देने लगते हैं। अचानक, छाती में तेज दर्द होता है, पसीना आता है और बाएं हाथ में दर्द होता है; हृदय को रक्त की आपूर्ति एक थक्के द्वारा बाधित होती है, और जीवन खतरे में है। दिल का दौरा पड़ने की प्रतिक्रिया में किसी भी देरी से मृत्यु का खतरा बहुत तेजी से बढ़ जाता है। दुर्भाग्य से, अधिकांश मामलों में हमला सुबह-विशेष रूप से 2 से 6 बजे के दौरान होता है, जब पूरी दुनिया सो रही होती है। डॉक्टर भी उस समय सो रहे होते हैं। और मरीज को अस्पताल ले जाना पड़ता है। अचानक चारों तरफ दहशत का माहौल है। डॉक्टरों की सलाह है कि दिल का दौरा पड़ने की स्थिति में उसे अस्पताल ले जाने से पहले रोगी की जीभ के नीचे एक सॉर्बिट्रेट टैबलेट रखनी चाहिए, ताकि दिल की मांसपेशियों को नुकसान से बचाया जा सके। और फिर भी, रोगी को कम से कम समय में अस्पताल ले जाना चाहिए। हृदय रोग को एक जीवन-शैली की बीमारी के रूप में करार दिया गया है, जो विशेष रूप से शहर के लोगों में होती है, जो (समय की कमी के साथ-साथ इच्छा शक्ति के कारण) बिल्कुल भी व्यायाम नहीं करते हैं, कोई शारीरिक काम नहीं करते हैं, बहुत बार जंक फूड खाते हैं, बहुत सोते हैं रात को देर से खाना, रात को खाना भी बहुत देर से मिलता है, रात को 9 या 10 बजे के बाद, रात को बहुत भारी भोजन करें और फिर सो जाएं। चूंकि, यह एक जीवन शैली की बीमारी है, यह स्पष्ट रूप से प्रभावित हो सकता है अगर हम अपनी जीवन शैली की देखभाल करना शुरू करते हैं। लेकिन, अफसोस, आधुनिक युवा पीढ़ी, हालांकि एक गतिहीन जीवन शैली और जंक फूड खाने के हानिकारक प्रभावों के बारे में और व्यायाम के स्वास्थ्य लाभों के बारे में भी जागरूक नहीं है। उनके पास व्यायाम करने, ठीक से भोजन करने और हर समय चिंता और दबाव के अधीन होने का समय नहीं है। इस स्थिति को देखते हुए, मैं एक बहुत ही आसान और सुनिश्चित तरीका सुझा रहा हूं, पहला तो आपके रक्तचाप और कोलेस्ट्रॉल को जांच के दायरे में रखना और दूसरा, दिल के दौरे जैसी जटिलताओं से बचने के लिए। योग में, हमने विभिन्न बीमारियों से बचने और उनके प्रभावों को कम करने के लिए कई मुद्राएं विकसित की हैं। ये मुद्राएं हमारे हाथों की उंगलियों में हेरफेर करके बनाई जाती हैं। इनका शरीर और मन पर अद्भुत प्रभाव पड़ता है। मैं यहाँ “अपान वायु मुद्रा” का वर्णन कर रहा हूँ, जो हृदय रोग को कम करती है, और दिल के दौरे के मामले में भी बहुत प्रभावी है। इस मुद्रा को इस तरीके से बनाया जा सकता है – अपने हाथ की तर्जनी को मोड़ो, और इसे अंगूठे के आधार पर दबाएं। इसके बाद, मध्यमा और अनामिका के अनामिका अंगुलियों को अंगूठे के सिरे से मिलाएं और छोटी उंगली को सीधा रखें। मुद्रा दोनों हाथों से बनानी होती है। दिल के दौरे के मामले में इसका प्रभाव जादुई है; यह एक सोरबिट्रेट टैबलेट की तरह काम करता है, और एक शक्तिशाली इंजेक्शन से भी बेहतर काम करता है। यह दिल को नुकसान नहीं पहुंचाएगा, और कोई भी इस मुद्रा में सुरक्षित रूप से बिना किसी घबराहट के अस्पताल जा सकता है। आइए इस मुद्रा के पीछे के तर्क को समझते हैं और देखते हैं कि यह कैसे काम करता है हमारा शरीर पांच तत्वों से बना है – अर्थात् अग्नि, वायु, अंतरिक्ष, पृथ्वी और जल। तर्क दृष्टांत में, वे अग्नि, वायु, आकाश, पृथ्वी और जल हैं। हमारे हाथों की पांच उंगलियां इन पांच तत्वों का प्रतिनिधित्व करती हैं। अंगूठा अग्नि को इंगित करता है, तर्जनी हवा को दर्शाता है, मध्यमा अंगुली को अंतरिक्ष को दर्शाता है, अनामिका पृथ्वी को दर्शाता है, और छोटी उंगली जल को दर्शाता है। योग का मानना ​​है कि जब तक ये पांच तत्व संतुलित होते हैं, वे सद्भाव और स्वास्थ्य बनाते हैं। इन पांच तत्वों में कोई भी असंतुलन बीमारी को जन्म देता है। उदाहरण के लिए-शरीर में अग्नि तत्व की वृद्धि से शरीर में गर्मी बढ़ेगी, वायु तत्व में वृद्धि से शरीर में विभिन्न दर्द पैदा होंगे, स्थान की वृद्धि से कई कान की समस्याएं हो सकती हैं, कोलेस्टेरॉल में वृद्धि, आदि-जबकि जल तत्व में वृद्धि का हवाला देते हैं यानी हमारे शरीर के अंगों को पानी से भरता है और उन्हें फुलाता है)। इसी तरह, इन तत्वों में कोई भी कमी अन्य प्रकार की बीमारियों को जन्म देगी। कई संभव तरीकों से इन पांच उंगलियों का उपयोग करके, हम इन पांच तत्वों के बीच संतुलन बहाल कर सकते हैं और इस तरह खुद को रोग मुक्त रख सकते हैं। जब हम अपान वायु मुद्रा करते हैं, तो हमने चार काम किए हैं। तर्जनी को मोड़कर, हमने वायु तत्व को कम कर दिया है जो तुरंत दिल में दर्द से राहत देता है। अंगूठे, मध्यमा और अनामिका की अनामिका युक्तियों को स्पर्श करके, हमने अग्नि तत्व (ऊष्मा), अंतरिक्ष और पृथ्वी तत्वों को बढ़ाया है। शरीर में गर्मी बढ़ने से, रक्त में मौजूद अशुद्धियों को दूर किया जा रहा है, अंतरिक्ष तत्व को बढ़ाकर, हम हृदय की धमनियों को अधिक ऑक्सीजन की आपूर्ति करते हैं, और पृथ्वी तत्व को बढ़ाकर, हमने हृदय की मांसपेशियों की शक्ति को बढ़ाया है। यही है, हमारी उंगलियों के एक बहुत ही सरल हेरफेर से, हमने दिल के दौरे की कठोरता से बचाने के लिए एक साथ चार-तंत्र बनाया है। हृदय को कोई भी नुकसान पहुंचाए बिना रोगी को आसानी से अस्पताल पहुंचाया जा सकता है। दिल का दौरा पड़ने के मामले में अपान वायु मुद्रा करना बहुत प्रभावी आपातकालीन उपचार की तरह है। अपान वायु मुद्रा अन्य मामलों की एक बड़ी संख्या में उपयोगी है, जैसे: अपान वायु मुद्रा के लाभ: • यदि नियमित रूप से सुबह, दोपहर और शाम को प्रत्येक 15 मिनट के तीन हिस्सों में 45 मिनट के लिए नियमित रूप से किया जाता है, तो यह हृदय रोग की कई समस्याओं को हल करने में सक्षम है। जब शरीर में वायु तत्व बढ़ता है, तो यह हृदय की धमनियों में अवरोध पैदा करता है; वे कठोर और संकीर्ण हो जाते हैं। इस मुद्रा को करने से दिल की धमनीकाठिन्य से राहत मिलेगी, और इस प्रकार यह हृदय की मांसपेशियों को मजबूत करता है और धमनियों में रुकावटों को दूर करता है। • यह एनजाइना को तुरंत राहत देता है; • यह रक्तचाप को सामान्य करता है और इस प्रकार हमें उच्च और निम्न रक्तचाप दोनों से बचाता है, क्योंकि यह संचार प्रणाली को उत्तेजित करता है। • तालु या कमजोर नाड़ी के मामले में, यह मुद्रा तुरंत पल्स दर को सामान्य कर देगी। • यह घबराहट को भी कम करता है, क्योंकि यह तंत्रिका तंत्र को शांत / शांत करता है। • यह अम्लता, गैस के निर्माण, कटाव, जलन को दूर करने में मदद करता है और पाचन तंत्र को मजबूत करता है। यह आंतों, शूल, कोलाइटिस, आदि के सभी रोगों को हल करता है; • यह अस्थमा जैसे श्वसन रोगों में अत्यधिक प्रभावी है। यह मुद्रा रक्त संचार प्रणाली को साफ करके फेफड़ों को उनके कामकाज में भी मदद करती है। सीढ़ियां चढ़ते समय या तेज गति से सांस लेने में कठिनाई महसूस करने वाले लोगों को सीढ़ियां चढ़ने से पहले लगभग 10 मिनट तक इस मुद्रा को करना चाहिए; वे बहुत बेहतर महसूस करेंगे। • इसी प्रकार, पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस और घुटनों में दर्द से पीड़ित लोग इस मुद्रा को ऊपर चढ़ने से पहले 10 मिनट तक कर सकते हैं; वे दर्द से राहत महसूस करेंगे। • यह माइग्रेन को ठीक करने में भी अत्यधिक प्रभावी है। माइग्रेन या सिरदर्द मुख्य रूप से कमजोर पाचन या उत्तेजित नसों के कारण होता है। जैसा कि पहले ही उल्लेख किया गया है, यह मुद्रा तंत्रिका तंत्र को शांत करती है और पाचन तंत्र को मजबूत करती है; इस प्रकार, माइग्रेन का कोई कारण नहीं है। • तंत्रिका तंत्र को सुखाने से, यह नींद को प्रेरित करता है और अनिद्रा को ठीक करता है। • मुद्रा दांत दर्द से भी छुटकारा दिलाता है; और हिचकी को ठीक करता है। • भारतीय संस्कृति में, पुरुषों में बाईं आंख का फड़कना और महिलाओं में दाईं आंख का फड़कना अशुभ माना जाता है। अपान वायु मुद्रा आंखों की अवांछित झपकी रोक देगी। • आयुर्वेद के अनुसार, तीन “दोषों” में कोई असंतुलन – वात, पित्त और कफ रोगों का कारण बनता है। अपान वायु मुद्रा इन तीन ’दोषों’ में संतुलन बहाल करती है। अपान वायु मुद्रा रक्त संचार प्रणाली – पाचन तंत्र, श्वसन प्रणाली, उत्सर्जन प्रणाली और तंत्रिका तंत्र को उत्तेजित और मजबूत करती है। • यह मन से सभी नकारात्मक भावनाओं, और शरीर के सभी नकारात्मक दबावों को दूर करता है। • यह गठिया में भी सहायक है • यह पोलियो के मामलों में भी सहायक है। अपान वायु मुद्रा इस प्रकार हमारे दैनिक जीवन में बहुत सहायक मुद्रा है और दिल के दौरे जैसी आपात स्थितियों में भी। इसका अभ्यास प्रतिदिन 45 मिनट – प्रत्येक 15 मिनट के 3 चरणों में किया जाना चाहिए। यदि नियमित रूप से लंबी अवधि में अभ्यास किया जाता है, तो यह हृदय की सभी बीमारियों को ठीक करने में सक्षम है। दिल की चोटों के लक्षण इससे पहले कि मैं निष्कर्ष निकालूं, मुझे आपको दिल के दौरे के लक्षणों के बारे में बताना चाहिए, क्योंकि, अधिक बार नहीं, हम नहीं जानते कि दिल के दौरे के लक्षण क्या हैं। दिल छाती के केंद्र में है, बाईं ओर नहीं, जैसा कि हम आमतौर पर मानते हैं। दिल के दौरे का सबसे आम लक्षण केंद्र में बेचैनी है। यह सामान्य रूप से एक तेज दर्द नहीं है, लेकिन दबाव, परिपूर्णता, निचोड़ने या दर्द की भावना है। यह हृदय की मांसपेशियों में ऑक्सीजन की कमी के कारण होता है, और हल्का, मध्यम या गंभीर हो सकता है। असुविधा पूरे छाती के माध्यम से विकीर्ण हो सकती है या नहीं हो सकती है। यह कुछ मिनटों या कुछ घंटों में कम हो सकता है। यह घंटे, दिन या सप्ताह बाद लौट सकता है। अस्थायी रूप से दर्द को रोकने के द्वारा गलत तरीके से आश्वस्त न हों। बेचैनी एक या दोनों बाहों में फैल सकती है, या अकेले हथियारों में दिखाई दे सकती है और छाती में नहीं। अपनी बाहों को ऊपर उठाने से सीने में दर्द नहीं होगा। अगर इसे इस तरह से बढ़ाया जाए तो यह हार्ट अटैक नहीं है। दर्द गर्दन या जबड़े में एक या दोनों तरफ और आगे या पीछे की ओर हो सकता है। सिर को मोड़ने या गर्दन को मोड़ने से छाती में दर्द नहीं होगा; अगर यह बढ़ जाता है, तो यह दिल का दौरा नहीं है – यह ग्रीवा दर्द हो सकता है। छाती में दर्द या असुविधा नहीं हो सकती है; यह डायाफ्राम के नीचे ऊपरी पेट में हो सकता है; यह पूर्णता या दबाव हो सकता है और अक्सर अपच या अम्लता के लिए गलत है। यह आमतौर पर निचली छाती की पसलियों तक फैलता है। इस दर्द के साथ मतली और उल्टी भी हो सकती है। दर्द स्थित पीठ में भी हो सकता है, न ही काठ का क्षेत्र, या ग्रीवा क्षेत्र में, लेकिन कंधे के ब्लेड के बीच; अक्सर अधिक तनाव से दबाव के लिए गलत है। इस प्रकार, दर्द केवल छाती में, या केवल कंधे के ब्लेड के बीच या केवल बाहों में या ऊपरी पेट में हो सकता है या इन सभी क्षेत्रों में एक साथ हो सकता है या विभिन्न संयोजनों में हो सकता है। सांस की तकलीफ, दम घुटना या ठंड लगना दिल के दर्द के साथ हो सकता है या नहीं। निप्पल के चारों ओर बाईं ओर दर्द आमतौर पर दिल के दौरे का संकेत नहीं है। यह दिल का दौरा है या नहीं (यानी आपको यकीन नहीं है कि क्या हो रहा है), अपान वायु मुद्रा तुरंत करें; यह दर्द और अन्य लक्षणों से तुरंत राहत देगा। जैसा कि पहले ही उल्लेख किया गया है, यह मुद्रा हृदय दर्द ही नहीं, बल्कि गैस्ट्रिक दर्द, एसिडिटी, हार्ट बर्न, डिस्पेना (दर्द के साथ सांस लेने में तकलीफ), सिरदर्द, दिल का तेजी से धड़कना, इत्यादि को भी ठीक कर देगी और इससे कोई साइड इफेक्ट भी नहीं होगा। जटिलताओं। यहां तक ​​कि पूरी तरह से स्वस्थ व्यक्ति भी इस मुद्रा को कर सकते हैं, बिना किसी दुष्प्रभाव के। यह भी याद रखें, हृदय का दर्द आमतौर पर लेटने से भी बदतर होता है। इसलिए, यदि आपको सीने में दर्द या दिल का दौरा पड़ता है, तो लेट न जाएं, बस बैठ जाएं। बहुत बार, हम बस कुछ सेकंड के लिए छाती में एक क्षणिक छुरा जैसा दर्द सहते हैं। यह दिल का दौरा भी हो सकता है और हम इस तरह के छोटे हार्ट अटैक से पीड़ित हो सकते हैं, बहुत बार, इसके बारे में पता किए बिना। ऐसी स्थिति से बचने के लिए, हमें स्वस्थ जीवन शैली अपनानी चाहिए- समय पर भोजन लेना चाहिए; रात का खाना हमेशा रात 8 बजे से पहले लें, घर का बना खाना लें; रात के खाने से बचें, नियमित रूप से टहलने जाएं या योग शिक्षक द्वारा सुझाए गए योगासन या प्राणायाम करें। निवारण हमेशा इलाज से बेहतर है। लेकिन, अगर आपको दिल की कोई समस्या है, तो अपान वायु मुद्रा रोजाना करें जब तक कि आपका दिल सामान्य रूप से काम न करे। मुद्रा के बारे में अधिक जानने के लिए पुस्तिका “ऑल अबाउट मुद्रा” पढ़ें लिंक नीचे दिया गया है http://www.box.net/saring/fdkh3tpzsb यह भी पढ़ें pdf में मुद्राएँ http://www.box.net/saring/pbfaun5ah6 मुद्रा चित्र नीचे लिंक में मिलेगा http://www.box.net/saring/kr2sv7mtv5 Another View of ApanVayu Mudra: (Kind courtesy Gramho.com:) Yoga is an ancient holistic way of being healthy with a combination of postures & breathing techniques. In that Mudras also play an important role. Our body is made up of Pancha mahabhuta (5 element).In Mudra’s it is represented by five fingers as: 1.Earth -Ring finger 2.Water-Little finger 3.Fire-Thumb 4.Air-Index finger 5.Space-Middle finger An incredible energy gets triggered by practicing Mudras in regular basis everyday. Apana Vayu Mudra helps in providing strength to your heart as well as regularize the palpations.It gives relief from the pain by improving blood circulation when under Cardiac Arrest. How to Practice: *Sit in Padmasana (Lotus Pose) or even in chair. *Now close your eyes and relax in this posture and listen to your breath. *And place your hands on the thighs. *Now stretch your palms outwards & fold your index finger by allowing it to touch the root of the thumb. *Also fold your middle, ring finger and thumb touching together. *Keep the little finger extended. Duration: You can practice it as many times as you can. In cardiac ailments or hypertension it can be practiced , 3times a day for 15 minutes/session. How it works? 1. Folding index finger(Vayu), reduces the air element. 2. Bringing together middle finger, ring finger and thumb that is space ,earth and fire respectively increases. 3. Reduction of Air element helps in give relief from pain in heart. 4. The increase in Space element helps in better oxygen supply to heart & it’s arteries. 5. Increase in Earth element will strengthen the heart muscles. 6. Increase in Fire element will remove the impurities from blood. So Apana Vayu Mudra can be used as a First Aid and also as an antidote in heart attacks.Thats why it is named as ‘Mrit Sanjeevani Mudra’.

Forget High B.P. and Heart Diseases with Apan Vayu Mudra Fatima Shoukat Ramzan Ali In Yoga, our sages have developed a number of Mudras to avoid various diseases and to mitigate their effects. These Mudras are made by manipulating the fingers of our hands. They have wonderful effect on body and mind. I am describing here “Apan Vayu Mudra”, which mitigates heart disease, and is highly effective even in case of heart attack. The Mudra has to be made by both the hands. Its effect is magical in case of heart attack; it works like a Sorbitrate tablet, and serves better than even a powerful injection. It will not cause damage to the heart, and one can safely go to a hospital in this Mudra, without any panic. The Apan Vayu Mudra is also called the Mrita Sanjeevani Mudra. It is a very powerful Mudra and in ancient India it was considered to be a life saver in case of a heart attack. Steps: 1. Sit down comfortably in the Padma Asana (Lotus Pose) or any other suitable posture. Breathe gently through your nostrils. 2. Now touch the tips of the middle and ring fingers to the tip of your thumb. Your little finger should point straight out. 3. This Mudra should be held for a period of ten to fifteen minutes. Benefits: · The Apan Vayu Mudra is supposed to be very beneficial for the heart. · People with a history of cardiac ailments should practice this Mudra on a regular basis. · The benefits of the Apan Vayu Mudra also extend to those who suffer from gastric problems such as heartburn and indigestion. Apan Vayu Mudra is useful in a large number of other cases: •If done regularly for 45 minutes daily in three stretches of 15 minutes each in morning, afternoon and evening, it is helpful for many heart diseases. When air element increases in the body, it causes constriction of heart arteries; they become hard and narrow. Doing this Mudra will relieve arteriosclerosis’ of the heart, and thus strengthens the heart muscles and remove blockages in arteries. •It relieves angina immediately. •It normalizes blood pressure and thus saves us from both high as well as low blood pressure, as it stimulates the circulatory system. •In case of palpitations or weak pulse, this Mudra will normalize the pulse rate immediately. •It also reduces nervousness, as it quietens / calms the nervous system. •It helps in relieving acidity, gas formation, eructation, belching, and strengthens the digestive system. It solves all diseases of the intestines, colic, colitis, etc; •It is highly effective in respiratory diseases like asthma. This Mudra, by cleansing the blood circulatory system, alos helps the lungs in their functioning. People who suffer from difficult breathing while climbing stairs or walking fast should do this Mudra for about 10 minutes before climbing stairs; they will feel much better. •It is also highly effective in curing migraine. Migraine or headache is primarily due to weak digestion or excited nerves. As already mentioned, this Mudra quietens the nervous system and strengthens digestive system therefor leaving no cause for migraine. •By soothing the nervous system, it induces sleep and cures insomnia. •According to Ayurveda, any imbalance in the three “doshas” – Vata, Pitta and Kapha causes diseases. Apan Vayu Mudra restores balance in these three ‘doshas’. Apan Vayu Mudra stimulates and strengthens the blood circulatory system – digestive system, respiratory system, excretory system and the nervous system. Apan Vayu Mudra is a very helpful mudra in our daily lives and also in emergencies like heart attack. It should be practiced for 45 minutes a day – in 3 phases of 15 minutes each. If practiced regularly over a long period of time, it is helpful in a number of heart ailments. Smile and stay away from depression, stress and worry

A different Version: (Kind Courtesy: www.freepressjournal.in) Simply Su-Jok: Know how you can strengthen your heart and lungs With the help of Mudra yoga and healthy lifestyle choices, know how you can keep your two of the most vital organs fit and fine. Simply Su-Jok: Know how you can strengthen your heart and lungs Stressful as it may have been, getting an anxiety attack over a test at such an age is not common. But my chemist said he has been hearing many cases of young people suffering from similar situations for maybe different reasons. It struck me that there may have been some other reason for such a young person to suffer from anxiety attack from a situation that is getting more and more common. For some, it may feel so strange it can cause things like rapid heart rate, difficulty breathing, chest tightness, dizziness, feeling hot or sweating, or other symptoms they may not recognize as a fairly common, but a much worse serious condition. Not only is it important to stay at home as far as possible, and work safely whenever and wherever possible. It is also critically important to keep lungs and immune system healthy to improve your body’s ability to fight off infection or illness. To actively fight off any viral infection, including this one, the best offense is healthy heart and lungs. Simply Su-Jok: Know how you can strengthen your heart and lungs Here are some proactive steps you can take to optimize your pulmonary health… Advertisement Advertisement Hydration It may not be top of mind, but proper hydration keeps your lungs lubricated so that irritants and mucus thin out. Diet You may even question the connection, but food choices are very important for heart lung and immune system health. There are many foods that assist the body with decreasing inflammation in the airways. Foods high in vitamins and antioxidants like fruits, vegetables, and omega-3 rich choices. They include apples, green tea, black coffee, raw seeds, nuts, cruciferous vegetables like broccoli, cauliflower, brussels sprouts, oranges and orange vegetables like pumpkin, and garlic. Exercise Heart is an important muscle and needs regular workout. Exercise helps increase your flow of oxygen in your bloodstream that then increases airflow to your muscles, heart, and lungs. 30 minutes of moderate exercise 5 times per week is recommended for both young and old. Reduced exposure to pollution, allergens and irritants The more irritated your lungs are by external sources, the more inflamed they get. As much as you can, reduce your exposure to aerosols and sprays like cleaners and hairsprays, pollens, and smokey environments. If you smoke cigarettes – even the electronic ones, you end up burning your lungs. Oral health To best protect your lungs, it is crucial to protect your teeth, gums, and tongue. Brush and floss twice per day to prevent the buildup of plaque and potential infections in your mouth. These could migrate from your mouth into your lungs, compromising their ability to function properly. More so, a healthy mouth will make it much easier and more sanitary to wear a mask. Frequent handwashing Prevention is the best cure. Washing hands with soap and running water are the most effective way of doing this. Keep a watch on sore throat With nowhere to go, consumption of cold beverages (soft and hard) is on the rise. I won’t recommend it for many reasons, but more importantly I would suggest reduction in use of ice. However good the water, when it freezes, it traps contaminants including possibly virus strains. If you do have a sore or scratchy throat, it is important to soothe it so that throat irritation doesn’t migrate down to the lungs. Drink warm liquids like water with a squeeze of lemon, a dash of apple cider vinegar, or sprinkle of Himalayan sea salt, along with green tea, matcha, weak black coffee, or another elixir. Warm liquids not only soothe the throat, but they also increase hydration and the flow of gastric juices in the stomach, helping reduce inflammation. For those with existing heart and lung conditions, make sure you monitor your blood pressure regularly at home. Here are a few tips to help you: Su-jok therapy, Ayurvedic acupressure have treatment for all the above but that needs more training. Nature has provided us with Self-treatment discovered by our ancient scientist; the treatment is called Mudra Yoga. Mritsanjivani: It is formed by folding the index finger to the root of the thumb and by joining the tips of middle finger and ring finger to the tip of the thumb, keeping the little finger straight. This mudra is also known as Apan Vayu Mudra. It has aptly been also called as Mrit-sanjivani mudra., i.e. the mudra which can arouse the dead to life because of life-saving effect. This mudra should be formed by both hands separately. Time: 45 minutes to 1 hour or 15 minutes thrice a day. Detailed knowledge about these Mudras is given in www.artofselfhealing.in. Simply Su-Jok: Know how you can strengthen your heart and lungs Simply Su-Jok: Know how you can strengthen your heart and lungs Simply Su-Jok: Know how you can strengthen your heart and lungs Pran Mudra is formed by touching the tips of the thumb, the small finger and ring fingers. Apan mudra is formed by joining the tips of the middle, the ring and the thumb. One should practice Mritsanjeevini Mudra with right hand and simultaneously the Pran Mudra or the Apan Mudra with the left hand alternatively. Benefits of Mritsanjeevni Mudra: This mudra is both effective and curative. It helps remove clogs and blockages in arteries and removes toxins from body. It also plays a key role in reducing fatigue, pain in nerves, muscles and bones. This mudra can help boost our physical and mental strength and the negativity from mind, thus helps in relieving anxiety. It can help combat vitamin / mineral deficiencies. With the help of this mudra one can improve blood circulation, memory and concentration. It cures Angina Pectoris. This mudra can also treat blood pressure problems. It can help keep reproductive organs of both male and female healthy. It can keep stomach, legs, thighs, knees, feet, ears and throat fine. It improves health of heart and lungs. Problems like constipation, diarrhea, nausea, vomiting, hiccough. Apart from these problems, it also helps control over eating. It may cure urinary tract infection, one may get rid of pus, albumin in urine, burning in urine and piles. This mudra could be a boon for diabetics. Those suffering from impotency should definitely give this mudra a try. This mudra also lowers the odd of cesarean delivery. It cures period pain and improves regular period cycle. It controls palpitation of heart, strengthens the nervous system, circulatory system, immune system, strengthens bones and muscles, joint pains, arthritis, gout. It generates optimism, purifies body and mind. It is equally useful in sudden Asthmatic attacks wherein a patient is struggling for breath, bronchitis, asthma, respiratory diseases, In case of knee pains and Asthma, if this Mudra is performed for 5-7 minutes before climbing up the stairs, it will ameliorate the pain of knees and prevent breathlessness which are generally due to stomach disorders. It helps in relieving of stomach problems like gastritis, colic, acidity, heart burn, etc. It has a magical effect in cases of headache, migraine, etc. It improves eyesight, wards off eye diseases and stops unnecessary blinking of eyes. (From increasing metabolism to overcoming physical problems, Prof Luthria speaks about the art of self-healing through simple techniques. For more information on treatments and remedies, kindly visit www.artofselfhealing.in) (To receive our E-paper on whatsapp daily, please click here. We permit sharing of the paper’s PDF on WhatsApp and other social media platforms.) 
0Shares