संतुलित षट्चक्र – परिवार परिचय

व्यवहार घर का ‘कलश’ और

इंसानियत घर की ‘तिजोरी’ कहलाती है –

मधुर वाणी घर की ‘सम्पत्ति’ और

शान्ति घर की ‘लक्ष्मी’ कहलाती है –

पैसा घर का ‘मेहमान’ और

एकता घर की ‘ममता’ कहलाती है –

बच्चे घर की ‘खुशियाँ’ तो

व्यवस्था घर की ‘शोभा’ और

समाधान ही घर का ‘सच्चा-सुख’ कहलाता है !!!!!!
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬

0Shares